एग्जामिनेशन हॉल

आज खामोश होकर वो मुझे देखती ही रही।
जैसे अभी-अभी, नया सा बाली उमर का प्यार हो।।

कितने सवाल थे मेरे दिल में उससे पूछने को।
पर वो कुछ न बोली, कहा चुप रहो बस प्यार हो।

मैं उसको बाँहों में थामे, उँगलियों से छेड़ते ये सोचता रहा

ये वही #कलम है जो अक्सर #कुछ_न_कुछ बोलती थी।।

#ये_प्यार_हमें_kiss_मोड़_पे_ले_आया

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s